अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
12.30.2007
 
परेशान है आदमी
अशोक वशिष्ट

खुदही से परेशान सा, लगता है आदमी,
आप अपनी मौत के दिन, गिनता है आदमी।

इतनी ख़्वाहिशें हैं, कि पाना नहीं है आसां,
तड़पता बहुत है अंत में, मरता है आदमी।

जमीं पे रहके चाँद, पाने की आरज़ू है,
ऐसे ही ख़्वाब देखता, रहता है आदमी।

सूरज तो सामने है, रोशन चिराग करता,
यूँ ही पत्थरों के आगे, झुकता है आदमी।

सामने ख़ुदा है पर, वो आसमाँ में ढूँढे,
उठता है आदमी कि ये, गिरता है आदमी?

अब आदमी में आदमी, बिल्कुल नज़र न आए,
आख़िर ये किस जहान में, बसता है आदमी?

अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें