अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
02.18.2009
 

गाँव में अफ़सर 
अशोक कुमार पाण्डेय


उस तरह नहीं आता गाँव में अफ़सर
जैसे आती है बिटिया हुलसकर ससुराल से
या नई दुल्हन लाँघते आशंकाओं के पहाड़
उस तरह तो बिल्कुल नहीं
जैसे हाट बाजार से भकुआये हुए
आजकल लौटते हैं काका
और वैसे भी नहीं
जैसे छुट्टियों में लौटते हैं कमासुत।

न पगलाई नदी की बाढ़ सा उफनता
न इठलाता पुरवा की मदमस्त बयारों सा
जेठ की उन्मत्त लू या सावनी फुहारों सा भी नहीं
अफ़सर तो बस अफ़सर सा आता है गाँव में !

सीमा पर पड़ते हैं पाँव
और नगाड़े सी गूँज जाती है धमक
धरती की शिराओं में
मुस्कुराता है तो हँसने लगती है चौपाल
और तनते ही भृकुटियों के
            सूख जाते हैं हरे भरे ताल
                  माथे की लकीरों से मुचमुचाये कुरते की
                  काई सी नीली जमीन
                  सँवारते अगियाए लोटे से
                  गुनते हैं चौकीदार जुगत
बरसों से ठहरी
पाँच सौ की रकम बढ़ाने की सिफ़ारिश की
लाज आती है जिसे अब पगार कहते

मुर्गे के साथ हलाल कर
कई सारे अंखुआते स्वप्न
रोपता है कोई
बंजर होती जा रही उम्र पर
किसी गलीज सी नौकरी की उम्मीद
संदूक की सात परतों से
निकालते हुए दहेजू बर्तन
और पुरखों से माँगते हुए क्षमा
जुटाते हैं सरपंच
अगली किस्तों के भुगतान की शर्तें

सन्निपात सा उभर आता है पूरा गाँव
मन में डर और उम्मीदें
आंखों में घिघियाती अर्ज़ियाँ लिये
समय का सवर्ण है अफ़सर
ढाई कदमों में नाप लेता है
गाँव का ब्रह्माण्ड।

कलम की चार बूँद स्याही में
समेट लेता है
नदी का सारा जल
वायु का सारा सन्दल
मिट्टी की सारी उर्वरा
मनष्य की सारी मेधा !
........................और फिर
इस तरह जाता है गाँव से अफ़सर
जैसे मरूस्थल की भयावह प्यास में
आँखों से मायावी सागर!


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें