अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
07.02.2007
 
गुर्खा फोर्ट की हाइक
अशोक गुप्ता

 
गुर्खा फोर्ट की हाइक पर,
जून की भकभकाती गर्मी में,
विक्टर और मैं।
नदी सूखकर
छोटे छोटे टुकड़ों में
सिकुड़ गई थी।
पानी में गोल पत्थरों पर
धूप चमक रही थी।
छोटी छोटी गुलाबी मछलियाँ
अपने नन्हें मुँहों में पानी
निगलते हुए दौड़ रहीं थीं,
इधर उधर, लाचार और भूखी।
वे काँटे की ओर भागीं,
काला, नुकीला काँटा
उनके आतुर खुले मुँह
को साफ चीर गया।
यह आसान था, बहुत आसान,
हमने कितनी ही पकड़ीं
और उन्हें फेंक दिया,
स्कूल लौटने के रास्ते पर।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें