अशोक बाबू माहौर

और अब
सुबह की धूप