अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली

मुख पृष्ठ
03.15.2017


बात बिगड़ी, ऐसी बिगड़ी

बात बिगड़ी, ऐसी बिगड़ी कि बनाते न बनी
ज़िन्दगी रूठी यूँ रूठी कि मनाते न बनी

लोग सारे ही लतीफ़ों के तलबग़ार मिले
गीत गाते न बनी शेर सुनाते न बनी

एक चिनगारी उठी उठ के बन गई शोला
आग फिर ऐसी लगी हमसे बुझाते न बनी

संगदिल वक़्त ने की दिल्लगी यूँ शामो-सहर
दूर जाते न बनी सिर को बचाते न बनी

हमने कुछ इस तरह से कर लिए क़रार कभी
बोझ काँधों पे लदे और उठाते न बनी


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें