अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली

मुख पृष्ठ
04.17.2014


यादों के मकान

जब से यादों के मकान बनाये हैं
उसमें सब कुछ होने के बावजूद
हर वक़्त
रोशनदान की कमी महसूस होती है
तभी से एक बैचेनी का सैलाब
पूरे समय
घेरे रहती है उसको
और ज़िन्दगी की सुबह को
शाम में तब्दील कर देती है
वहाँ सूरज तो है
मात्र लाली लिए हुये
सब कुछ राख कर देना चाहती है
जो बदनुमा दाग की तरह
उसकी सिहरन भरी ज़िन्दगी में
सब कुछ बयाँ कर जाता है
जिसे सूरज की रोशनी में
हमेशा के लिए भूलने की
कोशिश करता है
जबकि रोशनदान तो फिर भी दिखाई नहीं देता है।
उधर घर के पास बैठा
बूढ़ा भी तो
सुबह उठते ही
रात की कालिमा से
लदे दाग को झाड़ने लगता है
वह जानता है कि दाग तो हट नहीं पाते
किन्तु उसके हाथ
ज़रूर लाल होकर
ताजगी का अहसास करा देते हैं
उसे देख वह भी
रोशनदान के न होने के
दुःख को भूल जाता है
फिर अपनी यादों के मकान में
रोशनदान की कल्पना को स्थापित कर
सुबह की ताज़गी को महसूस करने लगता है


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें