अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
05.21.2016


आकांक्षा

थक चले हैं पाँव, बाहें माँगती हैं अब सहारा।
चहुँ दिशि जब देखती हूँ, काम बिखरा बहुत सारा॥


स्वप्नदर्शी मन मेरा, चाहता छू ले गगन को,
मन गीत में वेग इतना, मात कर देता, पवन को,
क्लान्त है शरीर, पर मन है अभी तक नहीं हारा।
थक चले हैं पाँव, बाहें माँगती हैं अब सहारा॥


जो जिया जीवन अभी तक, मात्र अपने ही जिया है,
अमृत मिला चाहे गरल, अपने निमित्त मैंने पिया है,
कर सकूँ इससे पृथक कुछ बदलकर जीवन की धारा,
थक चले हैं पाँव, बाहें माँगती हैं अब सहारा॥


कुछ नया करने की मन में कामना मेरी प्रबल है,
अर्थ मय कुछ कर सकूँ, यह भावना मेरी सबल है,
व्यक्ति से समष्टि तक जा सकूँ मन का यही नारा,
थक चले हैं पाँव, बाहें माँगती हैं अब सहारा॥


लालिमा प्राची में है, बादल घनेरे छँट रहे हैं,
अस्पष्टता और दुविधा के कुहासे घट रहे हैं,
किरण लेकर आस की चमका कहीं पर एक तारा,
थक चले हैं पाँव, बाहें माँगती हैं अब सहारा॥
चहुँ दिशि जब देखती हूँ काम बिखरा बहुत सारा॥


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें