आर्य हरीश "कोशलपुरी"

दीवान
आँसू लाख पीर पचहत्तर
कटी पतंग के डोर नहीं हम
जब तक निजी है पूँजी..