अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
05.03.2016


अस्तित्व

मै तो बस हूँ।
न स्त्री न पुरुष।
न काला न गोरा।
न राम न मूसा।
न नानक न ईसा।
न आस्तिक न नास्तिक।
न पूर्वी न पश्चिमी।
मै तो बस एक जीव हूँ।
किसी भी और जीव की तरह।
निर्भर साँसों पर निर्भर प्रकृति पर
मै तो बस एक इंसान हूँ।
मै तो बस हूँ।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें