अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
12.26.2007
 

खंडहर
अरुणा घवाना


खंडहर हुई वो आलीशान दीवारें
दीवारों के आँसू तो सब
झरझराते देख जाते हैं
इमारत से क्या कभी किसी ने पूछा,
मैं, इमारत से पूछ बैठा
मेरे भावुक शब्दों को सुन
वो रो पड़ी,
कांधे पर सिर रख
बोल पड़ी
कभी शान थी मैं
यहाँ के लोगों का ईमान थी
पर अब
अब तो शहर में
ईमान किसका बचा है
फिर कांधे से सिर उठाकर
साए सी वहीं बैठ विलीन हो गई
तब मुझे नींव का ख्याल आया
मैं मुड़ा, नीचे झाँका
देखा नींव की आँखें नम थीं
पर अब भी दर्प था उनमें
बोली,
उम्मीद है
इस खंडहर की अब
और दिन नींव नहीं रहूँगी
किसी खूबसूरत इमारत की
गवाह बनूँगी और दूँगी उसे आसरा
कह,
वह मस्ती से खिसक गई
मेरी हस्ती मिटा गई
मैं अब तक किस इतिहास में जीता रहा,
आज इतिहास की ही नींव
मुझसे बहुत कुछ कह गई।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें