अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
12.26.2007
 

चीड़
अरुणा घवाना


चीड़ के
इन ऊँचे ऊँचे वृक्षों पर
इक
घोंसले का ख़्वाब देखा,
ख़्वाब सपना था
या सच
पर चीड़ का वह
विशाल शाल देखा।

उस ऊँचे
शाल से फिर इक
भयानक शहर देखा
जल रहा था
जो कभी
आतंकवाद से
धर्म के नाम पर
आंदोलन की रौ पर
ख़्वाब सपना था
या सच
पर चीड़ का वह
विशाल शाल देखा।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें