अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
11.08.2016


जन्मदिन

अम्बर पर बहती थी नदिया
धरती पर थे चाँद सितारे
हाथों में थी जादुई डिबिया
वस्त्र भी थे सुन्दर सुनहरे।
"बेबलेड" ने थी धूम मचायी
"बेबलेड"- "बेबलेड" मैं भी चिल्लाई
तभी मम्मी ने खींची रजाई
जन्मदिन हो तुम्हें मुबारक।
भर बाँहों में गले लगाई
मैं अब भी थी, सपनों के रंग नहाई
सपनों को सच करने की ज़िद्द ठानी
क्या "बेबलेड" मुझे भी मिलेगी भाई?


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें