अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
11.08.2016


दिवाली

 दिवाली की रात है आई
ख़ुशियों से दामन भरने
अज्ञानता के तम को दूर भगा
ज्ञान के दीप को प्रज्ज्वलित करने।
पटाखों की धुँध से न होने देना
सच्चाई की राह को बोझिल,
दूसरे के जीवन को रौशन कर
देखो कैसे लौ मंद-मंद मुस्काती?
मानव तुम भी सीखो इनसे कुछ
हर वर्ष दिवाली, ईद क्या कहने आती?
मिल जुलकर ख़ुशी मनाने से ही
वसुधा में प्रेम की हरियाली आती।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें