अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
11.08.2016


देश की शान

(14 नवम्बर, बाल दिवस पर)

बच्चो तुम हो देश की शान
रखना माता-पिता का मान।

जीवन अपना सफल बनाओ,
राष्ट्र के हित में कुछ कर जाओ।
सदा सबको हो तुम पर नाज़
हम सब के हो तुम सरताज़।

नामुमकिन को मुमकिन है करना
मुश्किल राह पर हॅंस कर चलना।
कल था तुमसे, आज है तुम्हारा
फिर कल होगा तुम्हारा आकाश।

विश्वास की लौ सर्वत्र जलाकर
मन के तम को दूर भगाकर।
जोख़िमों से ना तुम घबराना
कठिन राह भी सरल बनाना।

देश के हित में कुछ कर जाना
ध्वज को होगा तुम पर नाज।
तुम ही हो आन, बान और शान।
बच्चो तुम हो देश की शान॥


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें