अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
04.19.2015


देखो मेरी आँखों में

देखो मेरी आँखों में हौले से मेरा नाम लो
जो मैं जाना चाहूँ मुझको हाथ बढ़ाकर थाम लो

भले बड़े हो लेकिन दिल से
तुम बिलकुल ही बच्चे हो
नादां-नटखट भोले-भाले
सीधे-सादे सच्चे हो
दिल की बातों में ओ दिलबर तुम दिल से ही काम लो!
जो मैं जाना चाहूँ मुझको हाथ बढ़ाकर थाम लो

मैं कुछ कहती पर दिल कहता
है तुमसे कुछ और करो
जो न कह सकूँ उन बातों पर
भी तुम थोड़ा गौर करो
थोड़ी तो शैतानी कर लो प्यार भरा ईनाम लो
जो मैं जाना चाहूँ मुझको हाथ बढ़ाकर थाम लो

यही वक़्त है आओ हम-तुम
ऐसी नादानी कर लें
इक-दूजे की ख़ातिर जी लें
इक-दूजे के हित मर लें
जपूँ तुम्हारा, तुम भी मेरा नाम, सुबह लो शाम लो!
जो मैं जाना चाहूँ मुझको हाथ बढ़ाकर थाम लो


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें