अंन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली

मुख्य पृष्ठ

04.02.2008

 
   
 
नाम :

अर्चना पैन्यूली

जन्म :

17-05-1963

राष्ट्रीयता : भारतीय (सन् १९९७ से डेनमार्क निवासी)
शिक्षा : बी.एससी. वर्षः १९८२; विश्वविद्यालयः गढ़वाल विश्वविद्यालय
विषयः जीवविज्ञान, वनस्पति विज्ञान एवम् रसायन विज्ञान
बी.एड. १९८४ विश्वविद्यालयः गढ़वाल विश्वविद्यालय
एम.एससी. वर्ष १९८२; विश्वविद्यालयः गढ़वाल विश्वविद्यालय
विषयः जीवविज्ञान
संप्रति : अध्यापिका होरशोल्म इन्टरनेशनल हाईस्कूल डेनमार्क में।
प्रकाशन : हिन्दुस्तान की लगभग सभी पत्र-पत्रिकाओं जनसत्ता हंस, वागर्थ, कथादेश, अन्यथा, वर्तमान साहित्य, अक्षरम संगोष्ठी, कादम्बिनी रचना समय आजकल साहित्य अकादमी व दिल्ली प्रकाशन की पत्रिकाओं में पचास से अधिक कहानी, लेख कवितायें व साक्षात्कार प्रकाशित। लेखन के अतिरिक्त डेनिश सुप्रसिद्व लेखिका कारेन ब्लिक्शन की रचनाओं का हिन्दी में अनुवाद।
प्रथम उपन्यास, परिवर्तन (२००३ में अभिरुचि प्रकाशन, दिल्ली से प्रकाशित
वेयर डू आई बिलॉन्ग? दूसरा उपन्यास है जिसके प्रकाशन के लिये प्रयास जारी है।
सम्मान/पुरस्कार :  धाद महिला मंच, देहरादून की एक साहित्यिक संस्था ने जुलाई २००४ (तब मैं भारत मैं थी) में मेरे उपन्यास परिवर्तन पर चर्चा करने के लिये एक गोष्ठी का आयोजन किया जिसमें मुझे उस क्षेत्र के साहित्य में योगदान के लिये सम्मान दिया।
साहित्य अकादमी, दिल्ली ने जनवरी २००५ में तीन दिनों तक होने वाले प्रवासी हिन्दी साहित्य सम्मेलन में मुझे भाग लेने व अपना आलेख पढ़ने को आमंत्रित किया।
इडिंयन कल्चरल एसोसिशन डेनमार्क ने अगस्त २००६ में एक संगोष्ठी का आयोजन कर और हिन्दी साहित्य क्षेत्र में मेरे योगदान के लिये प्रेमचन्द सम्मान से सम्मानित किया।
सूरत, गुजरात में एम.टी.बी. आर्टस कालेज की हिन्दी प्रवक्ता श्रीमती मनीषा आर फाले मेरी कृतियों पर शोध कार्य कर रही हैं।
सम्पर्क : archana@webspeed.dk
वेबसाईट : www.archanap.com