अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
10.16.2014


ज़ेब्रा क्रॉसिंग

अपने ही शहर में मैं रिक्शे में बैठ कर मुख्य बाज़ार से निकल रही थी। इतने में ही रैड लाइट ने रुकने का सिग्नल दिया। रोकते-रोकते रिक्शावाले से रिक्शा कुछ आगे बढ़ ही गया। इतने में ट्रैफिक पुलिस के सिपाही ने एक हाथ से रिक्शे वाले को बाल पकड़कर दो घूँसे उसकी पीठ पर गाली बकते हुए जड़ दिए। रिक्शेवाला गिरते-गिरते बचा। रिक्शे के तुरन्त बाद एक कार के पहिए भी ज़ेब्रा क्रॉसिंग पार कर गये। सिपाही ने गाड़ी को साइड में लगाने के लिए ड्राइवर को इशारा किया। गाड़ी साइड में खड़ी हो गई। कुछ गुपचुप बातचीत के बाद गाड़ी सर्र से आगे बढ़ गई। रिक्शे में बैठी मेरे मुँह से बस यही निकल पाया गाड़ी ड्राइवर के बाल भी तो बड़े थे।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें