अंतरिक्ष शर्मा

कविता
तेरा एहसास तो है
तेरी कमी सी है