अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
12.05.2018


तोते का स्कूल

तोते ने जंगल में खोला
पशु-पक्षियों का स्कूल ।
शिष्यों को जुटते देखा तो
तोता गया गर्व से फूल।

हाथी दादा आये, बोले,
"मैं अब कैसे बैठूँगा?
मेरे नाप की दरी मिली ना
खड़े-खड़े ही पढ़ लूँगा।"

फिर जिराफ जी आये, बोले
"मेरी तो गर्दन लंबी है ।
गुरुजी बैठेंगे फुनगी पर
तो मेरे मुँह की सीध में।"

हिरन आ गया, बोला,"भाई
मेरा कद तो ठीक है ।"
दरियाई घोड़ा भी आया
बोला,"दिक्क़त मुझे नहीं।"

खरहा आया, बोला, "मेरे
कान तो काफ़ी लंबे है।
मैं तो कूद-फाँद करता भी
सब सुन लूँगा, सीखूँगा।"

सारस बोला, "मैं तो यारो!
खड़ा-खड़ा ही पढ़ लूँगा।"
तभी शेर जी आये, बोले,
पहले आसन मुझको दो।

उन्हें देख सबके दिमाग़ की
चिड़िया तो गई उड़।
सभी जानवर भाग चले फिर
गुरु जी हो गये फुर्र।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें