अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
08.27.2016


वो पहली मुलाक़ात थी और क्या था

वो पहली मुलाक़ात थी और क्या था
नज़र से हुई बात थी और क्या था

मुहब्बत में उनकी सदा ज़िन्दगी ये
हमें तो हवालात थी और क्या था

वो शतरंज का खेल हमसे न पूछो
हमारी हुई मात थी और क्या था

खटकता है ज़हनों में बॅटवारा अब भी
बुज़ुर्गों की सौग़ात थी और क्या था

अॅंधेरे घरों को किया मैंने रोशन
फ़क़त ये क़लम साथ थी और क्या था

था तर्के-तअल्लुक़ ही ‘अनिरुद्ध’ लाज़िम
बस इक बात की बात थी और क्या था

एक चिंगारी ने सारा शहर जला दिया
बस बात की बात थी और क्या था

 


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें