अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
04.17.2015


हार मानूँगा नहीं

राह कितनी भी हो कठिन, थककर बैठूँगा नहीं।
मर जाऊँगा, मिट जाऊँगा, पर, हार मानूँगा नहीं।

चलना हो जिन्हें वे चलें साथ,
साहस हो जिनमें वे बढ़ें साथ।
रास्ता हो कितना भी दुर्गम,
पीछे मुड़कर देखूँगा नहीं।
हार मानूँगा नहीं।

संघर्षों का पथ मैंने चुना है,
गीत अपना मैंने गुना है।
नगद धर्म की बात करके,
उधार जीवन जिऊँगा नहीं।
हार मानूँगा नहीं।

सच पर कुहासा छाया है,
झूठ का बहुत बोल बाला है।
झूठ से मिले स्वर्ग भी तो,
सच का दामन छोड़ूँगा नहीं।
हार मानूँगा नहीं


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें