अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
04.17.2015


भय

बाजार में रिक्शा
रिक्शा में लड़की
लड़की में भय
भय में जीता समाज
समाज में हम और तुम।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें