अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
03.16.2016


कठोर हाथों की कविता

झूमती लहलहाती फ़सल
रंग-बिरंगें फूल और फल
कठोर हाथों की कविता हैं।

चहुँ ओर फैले बहुमंज़िला भवन
चूमते जो गर्व से गगन
कठोर हाथों की कविता हैं।

सीधे बलखाते रास्ते, राष्ट्र को देते जो गति
बनाते ख़ुशहाल जन जीवन, आधार जो प्रगति
कठोर हाथों की कविता हैं।

आँधियों से लड़ने वाला दीया
पथिक की प्यास बुझाने वाला घड़ा
कठोर हाथों की कविता हैं।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें