अमृता प्रीतम


कहानी

यह कहानी नहीं
ना राधा ना रुक्मणि

कविता

रोशनी
अज आखाँ वारस शाह नूँ