अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
03.06.2017


उड़ने वाले डाकिये

आकाश की अनन्त उँचाइयों पर
बिना विश्राम किये, उड़ते हुए
गन्तव्य पथ की ओर अग्रसर
नन्हे कबूतरों ने
बंद कर दिया है संवादों को ढोना अब।

एक स्थान से दूसरे स्थान तक
पत्रों को पहुँचाने की कला में
पूरी तरह माहिर ये आकाशीय डाकिये
तलाश रहे इन दिनों
जीवन भर का विश्राम
किसी बहेलियों से नहीं चाहते
अनायास भी मुलाक़ात हो इनकी।

आकाश में उड़ने वाले डाकिये की
उड़ चुकी है नींद
बंद हो चुकी है जुबान
खो गई है हँसी-मुस्कान।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें