अमितोष मिश्रा


दीवान
जब जब
दिन का आगाज़
मेरी चाहतें
मुसलसल ज़िन्दा रहने का
हर तरफ़, हर जगह बिखरे
कविता
मुझे नहीं मालूम