अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली

मुख पृष्ठ
03.31.2015


समूची धरा बिन ये अंबर अधूरा है

ये जो है लड़की
हैं उसकी जो आँखे
हैं उनमें भी सपने
जागे से सपने
भागे से सपने
सपनों में
पंख हैं
पंखों में
परवाज़ है
बंद खामोशी में पुरज़ोर आवाज़ है
आवाज़ में
वादा है
बहुत सच्चा, सीधा-सादा है
कि

मुझे आसमान दे दो
छोटा सही इक जहान दे दो
बदले में देती हूँ वादा
कि अकेली आसमान नहीं ओढ़ूँगी
ओढ़ ही नहीं पाऊँगी
ऐसी ही बनी हूँ मैं
स्वयं को छोड़ ही नहीं पाऊँगी

मेरी उड़ान में
सारा जहां उड़ पायेगा
जब जब थकेगा जहान
मेरे आँचल में दुबक आएगा
मत डरो, मत घबराओ
कि मुझे पंख मिले तो मैं पता नहीं क्या कर जाऊँगी
तुमसे आगे कहीं दूर निकल जाऊँगी
तुम्हारे अंगना में देहरी में नहीं समाऊँगी

मुझे आसमान दे दो
छोटा सही इक जहान दे दो
बदले में देती हूँ वादा
कि अकेली आसमान नहीं ओढ़ूँगी
ओढ़ ही नहीं पाऊंगी
ऐसी ही बनी हूँ मैं
स्वयं को छोड़ ही नहीं पाऊँगी

मेरे भाई
राखी ले के बहना तेरे ही पास आयेगी
मेरे बाबा
ये बेटी आसमान से उतर के आयेगी
तो भी तेरे ही अंगना में नन्ही बन इतराएगी
मेरे सैयां
तुम्हारे भी संग संग उडूँगी
हिमालय पर तुम संग पावों जड़ूँगी
समंदर के तल तक तैरती जाऊँगी
अनछुई अनखुली सीपी ले आऊँगी
तुम संग मिल कर गूँथूंगी माला
नन्ही को तुम संग मिल के पहनाऊँगी

आधी आबादी हूँ पर सच्च ये पूरा है
समूची धरा बिन ये अंबर अधूरा है
सच कहती हूँ
मुझे आसमान दे दो
छोटा सही इक जहान दे दो
बदले में देती हूँ वादा
कि अकेली आसमान नहीं ओढ़ूँगी
ओढ़ ही नहीं पाऊँगी
ऐसी ही बनी हूँ मैं
स्वयं को छोड़ ही नहीं पाऊँगी


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें