अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली

मुख पृष्ठ
12.14.2014


मेरी हक़ूमत हैरान है पहले भी परेशान थी अब भी परेशान है

पहले थी उनको मेरी ठंड से परेशानी
अब परेशानी ये की इसके यहाँ कम्बल क्यों है
पहले मेरे जंगलीपन से परेशान थे बेचारे
अब परेशानी ये की इसके पास जंगल क्यों है..??

पहले थी उनको मेरी भूख से परेशानी
अब परेशानी ये की इसके पास थाली क्यों है
पहले मेरे बहरेपन से परेशान थे बेचारे
अब परेशानी ये की इसके पास गाली क्यों है..??

पहले थी उनको मेरी झोपड़ से परेशानी
अब परेशानी ये की इसके पास घर क्यों है
पहले मेरे डरे रहने से परेशान थे बेचारे
अब परेशानी ये की सबको इसका डर क्यों है..??

पहले थी उनको मेरी दीवारों से परेशानी
अब परेशानी ये की इसका सब बेपर्द क्यों है
पहले मेरी बेदर्दी से परेशान थे बेचारे
अब परेशानी ये की इसके पास हमदर्द क्यों है..??


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें