अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली

मुख पृष्ठ
01.04.2015


आज फिर बाहर चाँदी बिछी है

आज फिर बाहर चाँदी बिछी है
आज फिर बिखरी धवल सी हँसी है
फिर से मुझे इस मफलर ने गर्माया है
नज़ारा वो सारा नज़र फिर से आया है
सब याद आया है
माँ का लिहाफ में सिमट के आना
फिर से वो ऊन के गोले बनाना
फंदे की ऊपर फंदे ही फंदे
सिलाईयाँ उलझाना सिलाईयाँ सुलझाना
सब याद आया है
हर सिलाई पर हाथों से मापते जाना
हर सिलाई पर हल्के से खींचते जाना
रजाई में सभी का लिपटते चले आना
रजाई घटाना रजाई बढ़ाना
कोने दबाना वो कोने उठाना
सब याद आया है
मूंगफली गज्जकी पंजीरी की महक
तरानों फ़सानों की चहक चहक
सब याद आया है
अचानक छुटकू का खिल-खिल खिलाना
शरारती हो ऊन उठा भाग जाना
माँ का हाँफना पीछे पीछे
पूरे घर का चककर लगाना
कमरे का हँसी से गले तक नहाना
सब याद आया है
माँ, सभी कुछ याद है
अच्छे से याद है
फिर वही मफलर पहना आज है
तुम नहीं हो
तुम्हारे वो चार दिन चार पहर पास है मेरे
तुम्हारा प्यार, तुम्हारा दुलार ,
गरमा रहा है सर्द उच्छ्वास मेरे
आज फिर बाहर चाँदी बिछी है
आज फिर बिखरी धवल सी हंसी है
फिर मुझे इस मफलर ने गर्माया है
माँ तेरा दुलार बहुत याद आया है
बहुत बहुत बहुत याद आया है .…


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें