अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
01.09.2008
 

ढूँढता हूँ मैं तुम्हें ...
अमित शर्मा


ढूँढता हूँ मैं तुम्हें
सावन में बरसती
रिम झिम बरखा में
ढूँढता हूँ मैं तुम्हें
बहारों में खिले
फूलों के गुलिस्ताँ में

ढूँढता हूँ मैं तुम्हें
उगते सूरज की लालिमा में
ढूँढता हूँ मैं तुम्हें
चाँद की चाँदनी में
ढूँढता हूँ मैं तुम्हें
मस्जिद से उठती अज़ानों में
और मंदिर से आती आरती में
जैसे ढूँढता कस्तूरी मृग
कस्तूरी को हर जगह
मैं ढूँढता तुम को
हर जगह और जानता नहीं
तुम बसी "मेरे दिल में"...


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें