अमित शर्मा


कविता

अधिकार और समर्पण
कुछ अनकही सी...
ढूँढता हूँ मैं तुम्हें ...
मायने ...
सोच...