अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
12.31.2015


विश्वास

सलोनी ने जैसे ही दरवाजे के अन्दर प्रवेश किया, शर्माजी ने डा़ँटते हुए पूछा- "इतनी देर कहाँ कर दी? तुम्हारी स्कूल की छुट्टी हुए तो तीन घण्टे हो गये। तू अब तक कहाँ थी?"

"पापा मैं अपनी एक सहेली के घर चली गई थी," सलोनी ने जवाब दिया।

"तुम्हें कहीं जाने की ज़रूरत नहीं, घर से स्कूल और स्कूल से घर चली आया करो," शर्माजी ने रौब से कहा।

"पापा आप मुझे हर बार मुझे डाँटते रहते हो, कभी प्यार से नहीं बोलते," सलोनी ने नाराज़गी ज़ाहिर करते हुए कहा।

"बेटा मैं तुम्हारा भला ही चाहता हूँ, बुरा नहीं। अब तुम बड़ी हो गई हो, तुम्हारा इधर-उधर आना-जाना अच्छा नहीं हैं, ज़माना बहुत बदल गया है। कुछ ऊँच-नीच.......," शर्माजी ने समझाते हुए कहा।

"पापा आप तो मुझे कैद करके रखना चाहते हो, यहाँ मत जाओं, वहाँ मत जाओं। क्या आपको अपनी बेटी पर विश्वास नहीं?"

"बेटा तुम पर तो मुझे पूरा विश्वास है, परन्तु इस ज़माने पर नहीं।"


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें