अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
01.27.2016


लड़का बना दो

"दीदी-दीदी, एक बात कहूँ?" चीनी ने अपनी बड़ी बहिन से कहा।

"हाँ, कहों।"

"क्या हमारे राहुल भैया को सब प्यार करते है?"

"हाँ।"

"मम्मी भी?"

"हाँ।"

"पापा भी?"

"हाँ।"

"बाबा भी?"

"हाँ।"

"दादी भी?"

"हाँ।"

"चाचा भी?"

लेकिन तुम.....?"

"सब उससे प्यार करते है, पर हमसे क्यों नहीं करते?"

 लड़का है और हम लड़कियाँ।"

"लड़के-लड़कियाँ कौन बनाता है?"

"भगवान।"

अपनी बड़ी बहन की बात सुनकर वह बोल पड़ी- "हे भगवान! हमें भी लड़का बना दो, जिससे सब लोग हमसे भी प्यार करने लग जायें।"


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें