अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
03.01.2016


ब्रह्म

वह मौजूद था जीवन में
रिश्वत की तरह।
था पर नहीं था,
नहीं था पर था-
विद्या, शक्ति, श्रद्धा हर रूप में,
निराकार ब्रह्म कहीं के!!


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें