शेष अमित

कविता
इंतज़ार
गाय
क्षण दोष
चोर जेब
टूटन
तुम हो
ब्रह्म
फूल के दोने
सपना