अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
07.12.2008
सामाजिक चिन्तन

आखिर कब लगेगा नशों पर अंकुश?
अमित कुमार लाडी


हैरत की बात है कि हमारे समाज में नशों का आतंक लगातार बढ़ता ही जा रहा है। गौर हो कि पहली बार नशा करने पर आदमी को सुकून सा अनुभव होता है। उसको एक अजीब सी खुशी का अहसास होता है। वह अलग दुनिया में पहुँच जाता है। लगातार पाँच-दस दिन नशे का सेवन करने पर व्यक्ति मानसिक तथा शारीरिक तौर पर इसका आदी होना शुरू हो जाता है और लगभग तीन-चार सप्ताह में वह नशे का गुलाम हो जाता है। नशा न मिलने पर कई तरह की तकलीफें महसूस करता है। उन तकलीफों को दूर करने के लिए उसे फिर उसी नशे का प्रयोग करना पड़ता है और इस तरह से वह पूर्ण रूप से नशे के शिकंजे में जकड़ जाता है और अपने आप को यदि वह इससे छुड़ाना भी चाहे तो असहाय अनुभव करता है।

उल्लेखनीय तथ्य यह है कि इन दिनों कालेज और स्कूल में पढ़ने वाले कई नौजवानों को नशे की इतनी लत है कि दुकानदारों से चाय बनवाते समय अपनी जेब में से चूरा पोस्त निकाल कर डालने के लिए देते हैं। कालेज और स्कूल में पढ़ने वाले यह नौजवान तंबाकू, बीड़ी-सिगरेट, अफीम, स्मैक आदि का भी सेवन करते हैं। कई नौजवानों की जेब में जरदे की पुड़िया तो हर समय ही रहती है। नौजवानों के साथ-साथ बच्चे और बुजुर्ग भी नशे का सेवन करते हुए देखे जा सकते हैं। आजकल बीड़ी-सिगरेट, तंबाकू जरदा, शराब, अफीम आदि नशे तो आम बात हो गई है। इस तरह के नशे करने वाले को नशेड़ी नहीं कहा जाता। आज के इस युग में नशेड़ी उसे कहते हैं जो स्मैक और हेरोइन का नशा करता है। बड़े ही दुख की बात है कि आज भारत में ऐसे नशेड़ियों की संख्या दिन प्रतिदिन बढ़ती ही जा रही है। अगर अभी से ही इस समस्या की ओर ध्यान न दिया गया तो आगामी दिनों में हमारा भारत नशेड़ियों का भारत बन जाएगा।

एक अनुमान के अनुसार पिछले छह महीने में अकेले दिल्ली में ही पाँच सौ करोड़ रुपए का मादक पदार्थ पकड़ा जा चुका है। जब देश की राजधानी में इतना बुरा हाल है तो फिर देश के अन्य हिस्सों का क्या हाल होगा? देश का अन्नदाता कहलाए जाने वाला राज्य पंजाब आज नशों से जकड़ा हुआ है। गौर हो कि पंजाब के अस्सी प्रतिशत युवा नशे की चपेट में हैं। उधर पंजाब में बेरोज़गारी भी बहुत है और ऐसी स्थिति में यह बात सोचने को मजबूर करती है कि नशा करने के लिए युवाओं के पास धन कहाँ से आता है? अफ़सोस होता है कि इस खुशहाल सूबे का बड़ा वर्ग नशों का धड़ल्ले से प्रयोग कर रहा है। मुझे समझ में नहीं आता है कि नशों के कारण युवा वर्ग गलत मार्ग की ओर भटक कर गुनाहों की दलदल में क्यों धँसता जा रहा है?

दुर्भाग्य से नशों का इस्तेमाल टॉनिक की तरह किया जा रहा है। हमें यह ध्यान में रखना होगा कि नशे न तो किसी प्रकार के पौष्टिक टॉनिक हैं एवं न ही मानसिक क्षमता बढ़ाने वाले हैं। दरअसल, नशे एक प्रकार के हलके विष हैं जो तात्कालिक स्फूर्ति एवं क्षणिक मानसिक उत्तेजना मात्र देते हैं। मात्र थकान मिटाने व बोरियत भगाने के लिए इनका सेवन किया जा रहा है। ध्यान रहे कि नशे का सेवन करने वाला धन भी खोता है और अमूल्य जीवन भी। दरिद्रता उससे आ लिपटती है एवं बीमारियाँ पीछा नहीं छोड़तीं।

बचपन में मैंने एक फिल्म देखी थी (फिल्म का नाम मुझे याद नहीं) जिसमें एक शराबी नायक एक दिन होश में आने पर खाली जाम में हाथ की अंगुली डालकर सोचता है कि इस प्याले की इतनी छोटी सी गहराई में उसका मकान, जमीन, बाप दादा की कमाई आदि सब कुछ डूब गया। दरअसल, नशा चीज़ ही ऐसी है जो बड़ी-बड़ी हस्तियों को आसमान से ज़मीन पर पटक देता है। नशा करने वाला तो दोषी है ही, साथ ही नशीले पदार्थ बेचने वाले ज्यादा दोषी हैं। वैसे तो नशीले पदार्थ बेचने वालों के लिए काफी सख्त एन.डी.पी.सी. कानून बनाया गया है। कानून में सख्त सजा का प्रावधान है। परंतु कानून का पूरी तरह इस्तेमाल नहीं हो रहा है। कानून बनाने के बाद उसे यदि सही तरीके से लागू किया जाए, उसका पालन किया जाए तो उसका परिणाम भी अच्छा हो सकता है। गौर हो कि एन.डी.पी.सी. एक्ट के तहत ड्रग्स लेने वाले को 6 माह, ड्रग्स रखने वाले को 10 वर्ष से कम और ड्रग्स बेचने वाले को 10 वर्ष की सजा होती है। एन.डी.पी.सी. एक्ट की जानकारी आम आदमी को जरूर होनी चाहिए जिससे आम नागरिक नशीले पदार्थों के सेवन से डरेगा। कानून को सही ढंग से इस्तेमाल कर नशीले पदार्थों की बिक्री पर रोक लगाना संभव है। इसके अलावा नशे के बुरे प्रभावों के संबंध में लोगों को जागरूक करने की भी आवश्यकता है। हमें भी प्रण लेना चाहिए कि इन नशीले पदार्थों का सेवन नहीं करेंगे और अपने इस अमूल्य जीवन को नशों में गवाने की बजाए देश के विकास में लगाएँगे।

नशा हारे समाज के माथे पर कलंक है। नशे के प्रचलन का मुख्य कारण यह है कि नशा आसानी से उपलब्ध होता है। आजकल ज्यादातर करियाने की दुकानों और नशा बेचने वाले खोखे पर यह आसानी से उपलब्ध है और हमारी सरकार खामोश है। वैसे सरकार के द्वारा बहुत से नशा छुड़ाओ केंद्र खोले हुए हैं, लेकिन फिर भी हकीकत यही है कि पंजाब के अस्सी प्रतिशत युवा नशे की चपेट में हैं। मैं मानता हूँ कि सरकारी तथा गैर-सरकारी संगठनों द्वारा नशा छुड़ाओ कार्यक्रम चलाए जा रहे हैं, जिनका कुछ हद तक फायदा भी हो रहा है। लेकिन यह भी सच्च है कि कई केंद्र नशा छुड़ाने के नाम पर लोगों को ठग रहे हैं। ऐसा करने वाले लोगों के खिलाफ़ सरकार को अभियान चलाना चाहिए और पकड़ कर सख्त से सख्त सजा दी जानी चाहिए।

अपनी कथित उपलब्धियों पर बार-बार अपनी ही पीठ थपथपाने वाली सरकार क्या इस दिशा में कुछ सोचेगी? सरकार को चाहिए कि वह स्वास्थ्य, सामाजिक और आर्थिक प्रणाली को बुरी तरह से प्रभावित कर रहे इन नशों की बिक्री पर पाबंदी लगाए। कुल मिलाकर नशे की प्रवृति का लगातार बढ़ते रहने का मुख्य कारण सरकार ही है। दरअसल हमारी सरकार ही नहीं चाहती कि नशे का राक्षस खत्म हो क्योंकि नशों से ही सरकार को सबसे ज्यादा आमदनी होती है। हमारी सरकार उस मसीहा के समान है जिसके बारे में यही कहा जा सकता हैः

 आपने ऐसा मसीहा भी कभी देखा है क्या?

ज़ख़्म देकर जो पूछे दर्द सा होता है क्या?


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें