अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
01.07.2016


रामलीला

गाँव में बड़ी चहल-पहल थी। आखिर होती भी क्यूँ न, एक लम्बे अरसे बाद फिर रामलीला का आयोजन हो रहा था। बीस बरस पहले हर अगहन-पूस के महीने में इस गाँव में रामलीला हुआ करती थी।

मुझे अब भी रामलीला का हर एक दृश्य ज्यों का त्यों याद है। अपार जनसमूह से लाला की बगिया खचाखच भर जाती थी। ऐसा लगता था की गाँव का बच्चा-बच्चा सारे काम-काज छोड़कर जमा हो गया था। रामायण की आरती के साथ रामलीला के कार्यक्रम का शुभारम्भ होता था। आरती सबके सामने ले जाना तो हर तरह से मुश्किल था। हम लोग बारी-बारी मंच के पास जाकर आरती ले लेते और पाँच, दस, बीस पैसे डाल देते थे। फिर हम लोग तल्लीन होके रामकथा देखते भी, सुनते भी। इतनी तल्लीनता होती थी कि पूस की सर्द रात भी हम लोगों के सामने घुटने टेक देती थी। आधी रात के बाद रामलीला का समापन हो जाता। लोग अपने-अपने घरों में राम-नाम लेके सो जाते। फिर दिन भर अपना काम निबटाते और रात में रामलीला देखते ही सारी थकान मिट जाती। ऐसी होती थी रामलीला!

फिर न लाला जी रहे, न उनके बाल-बच्चों ने इसमें दिलचस्पी ली। न गाँव वालों को फ़ुर्सत मिली और न फिर रामलीला हुई।

आज एक-बार फिर रामलीला का उत्साह हर बूढ़े, नौजवान और बच्चे में देखने लायक था। नौजवानों में ख़ास तौर पर। कारण ये था कि इन्होंने ही घर-घर जाकर, हाथ-पाँव जोड़कर चन्दा इकठ्ठा किया था।

धीरे-धीरे रामलीला मंडली हमारे गाँव में पधार चुकी थी। ये बात क़ाबिले गौर थी कि इस बार मंडली में पुरुषों के साथ लड़कियाँ एवं महिलाएँ भी थीं। इससे पहले मंडली में सिर्फ़ पुरुष ही हुआ करते थे। स्त्री जैसे सीता, कैकयी आदि के पात्र भी उन्हें निभाना पड़ता था। हालाँकि उनकी तरफ़ से कोई कसर नहीं छोड़ी जाती थी, इसके बावजूद भी उनका चरित्र उतना असरदार नहीं बन पाता था। ज़ाहिर था कि ये महिलाएँ इन्हीं स्त्री-पात्रों के लिए थी।

सारी तैयारियाँ पूरी हो चुकी थीं। रामलीला का समय आ चुका था। शाम अँधेरे में तब्दील हो गई थी। इस बार अपेक्षाकृत ज़्यादा ठंडक पड़ रही थी। पूरे मैदान में पुआल डाल दिया गया था।

धीरे-धीरे पर्दा उठा। सारे कलाकार मंच पर दिखे। ऐसा पहले भी हुआ करता था, जब रामायण की आरती होने वाली होती थी। सभी कलाकारों ने बारी-बारी से अपना परिचय दिया। पर्दा गिरा। मैं समझ गया कि अब रामायण की आरती होने वाली है। कि तभी-

“अब आपके सामने अपने जलवे बिखेरने आ रहीं हैं, रामकली।”

पर्दे के पीछे से आ रही इस आवाज़ के साथ ही किसी फ़िल्मी गाने की धुन बजने लगी। पल भर में पर्दा उठा और रामकली मंच पर ‘बिन पानी के मछली’ की तरह तड़पती हुई दिखीं।

मुझे रामलीला का ये मंज़र बड़ा अजीबोगरीब लगा। मैंने लोगों की मनोस्थिति भाँपने के लिए इधर-उधर नज़रें दौड़ाई। ज़्यादा ठंडक होने की वज़ह से भीड़ उम्मीद से काफ़ी कम थी। सभी के हाव-भाव यही बता रहे थे कि सब कुछ सामान्य व स्वाभाविक था।

रामकली गई फिर चम्पाकली आई, फिर मुन्नीबाई और फिर राजरानी। इतने लटके-झटकों के बाद रामायण की आरती हुई और फिर रामलीला का कार्यक्रम शुरू हुआ।

वही रामकली, जो कुछ देर पहले मंच पर झूम रहीं थी, साक्षात् सीता के रूप में सामने खड़ी थी। लाख कोशिशों के बावजूद मुझे उस शांति-स्वरूपा सीता में थिरकती रामकली नज़र आ रही थी। इससे पहले सीता के रूप में पुरुषों को देखकर भी मेरा मन भक्ति-भाव से भर उठता था। जैसे-तैसे रामलीला के पाठ का समापन हुआ। एक बार फिर उसी रामकली को मंच पर बुलाने की गुज़ारिश लोगों ने की।

मुझे रामलीला के ये बदले तेवर बेचैन कर रहे थे। घर आने के बाद काफ़ी देर तक मैं सो न सका था।

अगला दिन बीता। फिर रामलीला का वक़्त हो चुका था। मैंने थोड़ा देर से जाने का मन बनाया। इसके दो कारण थे- एक तो ज़्यादा भीड़-भाड़ न होने की वज़ह से जगह मिलने की कोई दिक्कत न थी। दूसरा, मुझे रामलीला के मंच पर वो फूहड़ नाच अच्छा न लगा था। कल के वक़्त से तक़रीबन एक घंटा बाद मैं रामलीला मैदान की ओर रवाना हुआ। वहाँ पहुँचकर मैंने कल से भी अजीब मंज़र देखा।

पूरा मैदान लोगों से खचाखच भरा था। रामकली मंच पर थिरक रही थी। कुछ लोग तालियों एवं गालियों से हौसला-अफ़जाई कर रहे थे तो कुछ रुपये-पैसे दिखाकर अपनी फरमाइशें पूरी करवा रहे थे। पूरा माहौल बदला सा लग रहा था। और मैं, बैठने की जगह न मिल पाने की वज़ह से खड़े-खड़े ही रामलीला के अगले पाठ का इंतज़ार कर रहा था।

काफ़ी रात बीत जाने पर भी अभी रामायण की आरती तक न हो पाई थी। दो-चार लोग, जो लगभग मेरे हमउम्र थे, इसके लिए शोर-शराबा कर रहे थे। मगर उस अपार जन-समुद्र में दो-चार बूँदों के हलचल से क्या फ़र्क पड़ सकता था! तभी पर्दे के पीछे से आवाज़ गूँजी-

“बेहद अफ़सोस के साथ कहना पड़ रहा है कि रात अधिक व्यतीत हो जाने के कारण आज का रामलीला-पाठ संभव न हो सकेगा। आप लोग रामकली के नगमों का लुत्फ़ उठाइए।”

मैं उलटे पाँव वापस लौट पड़ा। ऐसा था बीस साल बाद रामलीला का मंज़र। जहाँ सब कुछ बदल चुका था, बस एक नहीं बदला था तो वो ‘रामलीला’ का नाम।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें