अमरजीत टांडा

कविता
आज कुछ न लिखने को
कल सुबह
तेरी एक याद बची है