अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
02.03.2017


शांति

घर के बुज़ुर्ग की मौत हो चुकी है
वह जल चुका है मरघट में
घर पर रुदन चल रहा है
संबंधी-परिचित आ रहे हैं
रो रहे हैं, ढाँढस बँधा रहे हैं
कि होनी को कौन टाले?
बीड़ी फूँक रहे हैं, गुटखा थूक रहे हैं
भीतर औरतें रो रही हैं, मर्द आँगन में हैं
तमाम रस्में जारी हैं
मृत्युभोज के पत्र छप चुके हैं, बाँटे जा चुके हैं
आज मृत्युभोज है, लोग आ रहे हैं
खा रहे हैं, लौट रहे हैं
तेरह दिन ख़त्म
संतानों ने पंचायत बुला ली है
अब सही और आख़िरी फ़ैसला होकर रहेगा
देखते हैं कौन कितना ले पाता है,
ले जाता है
मृत की आत्मा को शांति मिले।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें