अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
04.09.2017


मेला है भाई मेला है

मेला है भाई मेला है

हलवाई की दुकान से उठती मिठाई की सुगंध
घर-बाहर की चीजों के भी कई रंग
चाट-पकौड़ी और बर्फ के गोलों के संग
खेल खिलौनों से भरा रंगीन ठेला है
मेला है भाई मेला है

तमाशों से भरा बाज़ीगर का झोला है
बन्दरिया के करतबों से सजा मदारी भोला है
झूलों-चकरियों के संग झूलता-झूमता
जनता का रेला है
मेला है भाई मेला है।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें