अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
02.03.2017


झोंका

हम शान से जीते थे
रुतबा था एक ग़ज़ब ही हमारा, मित्र मंडली में
जब सब बताशे लूटने में रहते
हम अपनी पोथी में सिर खपाते
सब आश्चर्य करते कि कैसे मैं ही बचा हूँ,
बचा पाया हूँ अपने बग़ीचे को, इस बयार से।
मैंने कोई मौक़ा ही नहीं दिया था
बाड़ लगाए रखी हमेशा
ताकि बचा रहूँ मैं, रोगी बनने से
अपने दोस्तों की तरह
मधुवन में भटकने से, खो जाने से
पर आज सुबह ही
एक हवा का झोंका, उसी हवा का
मेरे बग़ीचे से गुज़र गया
और इस बग़ीचे की सब कलियाँ खिल गईं
फूल बन गईं
और अब मैं भी किसी के लिए
गुलाब चुन रहा हूँ।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें