डॉ. अमर ज्योति 'नदीम'


कविता

अबकी बार दिवाली में
माना कड़ी धूप है