आलोक शंकर


कविता

आत्म - मंथन
कोल्हू के बैल
तुम होते तो