अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
09.03.2014


मेघ-निमंत्रण

मेघ
बरस, बरस
खा, तरस तरस
तू देख सरस
मत भटक, अटक
हाँ
देखी तेरी मस्त चाल
मदमस्त पवन के कदम-ताल
यह आवारा
तुझे उड़ाता - गगन भर
हाँफते, हुंकार भरते
अपने ही संगी को ढूह मारते
विद्दुत काँपता, चीरता
आकाश से धरती तक
जो जलती झुलसी श्लथ
उत्ताप, संताप से त्रस्त
बरस बरस की प्यासी
निहारती, निःश्वास भेज
मूक आमंत्रण
सरस कर
कोख
आ बरस बरस
खा तरस तरस।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें