अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
01.31.2017


 मिलने जुलने का इक बहाना हो

 मिलने जुलने का इक बहाना हो
बरफ़ पिघले तो आना जाना हो

दिन हो छुट्टी का और बारिश हो
दोस्त हों और शराब खाना हो

अजनबी था मगर वो ऐसे मिला
जैसे रिश्ता कोई पुराना हो

क्यों उठाते हो बोझ यादों का
भूल जाओ जिसे भुलाना हो

देस परदेस में फ़रक क्या है
आब-ओ-दाना हो आशियाना हो

अब तो यह घर पराया लगता है
अब कोई दूसरा ठिकाना हो


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें