अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
04.20.2018


इक मुसाफ़िर राह से भटका हुआ

इक मुसाफ़िर राह से भटका हुआ
इक दिया मुंडेर पर जलता हुआ

एक पत्ता शाख से गिरता हुआ
इक परिंदा आस्मां छूता हुआ

एक तितली फूल पर बैठी हुई
एक मकड़ा जाल में उलझा हुआ

ज़र्द पत्ते हर तरफ़ उड़ते हुए
और हवा का हौसला बढ़ता हुआ

एक धरती धूप में तपती हुई
एक दरिया बेख़बर बहता हुआ

कोई आहट दूर से आती हुई
एक दरवाज़ा कहीं खुलता हुआ

बेसबब सारे खिलौने तोड़ कर
एक बच्चा ज़ोर से रोता हुआ


तक्तीअ
बहर: रमल मुसद्दस महज़ूफ
फाइलातुन फाइलातुन फाइलुन
२ १ २ २ २ १ २ २ २ १ २

इक मुसाफ़िर/ राह से भट/का हुआ
२ १ २ २ / २ १ २ २/ २ १ २
इक दिया मुं/डेर पर जल/ता हुआ
२ १ २ २/ २१ २ २ / २ १ २

एक पत्ता शाख से गिरता हुआ
२ १ २ २ २ १ २ २ २ १ २
इक परिंदा आस्मां छूता हुआ
२ १ २२ २१ २ २ २ १ २

एक तितली फूल पर बैठी हुई
२ १ २ २ २ १ २ २ २ १ २
एक मकड़ा जाल में उलझा हुआ
२ १ २ २ २ १ २ २ २ १ २

ज़र्द पत्ते हर तरफ़ उड़ते हुए
२ १ २२ २ १ २ २ २ १२
और हवा का हौसला बढ़ता हुआ
(और को २ १ या सिर्फ २ गिनना मान्य है)
२ १ २ २ २१ २ २ २ १ २

एक धरती धूप में तपती हुई
२ १ २ २ २ १ २ २ २ १ २
एक दरिया बेख़बर बहता हुआ
२ १ २ २ २१२ २ २ १ २

कोई आहट दूर से आती हुई
(कोई को २२, २१, या १२ गिना जा सकता है)
२ १ २ २ २१ २ २ २ १ २
एक दरवाज़ा कहीं खुलता हुआ
२ १ २ २ २ १ २ २ २ १ २

बेसबब सारे खिलौने तोड़ कर
२ १ २ २/ २ १ २ २/ २ १ २
एक बच्चा ज़ोर से रोता हुआ
२ १ २ २ २ १ २ २ २ १ २


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें