अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
02.10.2016


यहीं हूँ मैं

यहीं हूँ मैं,
बिखरे पन्नों सा,
निकल गए जो,
ज़िन्दगी की किताब से,

यहीं हूँ मैं,
टूटे ख़्वाब सा,
देखे थे जो,
किसी अपने के साथ में,

यहीं हूँ मैं,
बुझते चिराग़ सा,
जलाया था जो,
उसकी राहों में,

यहीं हूँ मैं,
डूबती कश्ती सा,
उतारी थी जो,
अरमानो के समंदर में,

यहीं हूँ मैं,
मिटती याद सा,
ज़हन में थी जो,
किसी अपने की,

यहीं हूँ मैं,
समेटने को तैयार,
फिर एक बार,
क़िस्मत को॥


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें