आकाश जैन

कविता
जो छपा है इस दिल में
फैलाने दो पंख मुझे
यहीं हूँ मैं