अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
04.25.2015


गीत कहीं कोई गाता है

हो निराश मन कुंठित जीवन,
गन्तव्यहीन, करे पथ क्रंदन,
व्यर्थ हो रहे हों आश्वासन,
अनायास एक सुर कानों में,
अग्रदूत सा बन जाता है,
गीत कहीं कोई गाता है।।
गीत कहीं कोई गाता है ...

नित सिंचित कर पोषित करता,
तब जाकर एक पुष्प है खिलता,
माली के मन को ना पूछो,
छनक छनक जाता है,
जब उपवन में कुसुमावली पर
भँवरा कोई मँडराता है।।
गीत कहीं कोई गाता है ..


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें