अहमद रईस निज़ामी


शायरी

घर में तलाश कर लिये
हँसी-घरों में वो शीशे दिखाई देते हैं
जुगाड़